26.3 C
Haryana
Tuesday, December 1, 2020

काम ना करने वाले सरपंचों को हटा सकेंगे ग्रामीण, जानिये क्या है प्रक्रिया ?

Must read

सोने की चमक पड़ी फीकी, 4 साल में सबसे बड़ी गिरावट, फटाफट जानें नए भाव

Yuva Haryana, 01 December, 2020 सोने की कीमतों में 4 साल की सबसे बड़ी गिरावट देखने को मिली है। सोमवार को भले ही भारतीय शेयर...

हरियाणा के इस शहर में पहला 4 मंजिला Bus Stand बनकर तैयार, 2021 में होगा उद्घाटन

Yuva Haryana, 01 December, 2020 हरियाणा प्रदेश का पहला चार मंजिला बस स्टैंड फतेहाबाद में बनकर लगभग तैयार है। यह बस स्टैंड करीब 8 करोड़...

हरियाणा के इस निर्दलीय विधायक ने वापस लिया भाजपा सरकार से समर्थन, देखिए

Yuva Haryana, 01 December, 2020 हरियाणा के दादरी से निर्दलीय विधायक सोमबीर सांगवान ने हरियाणा की भाजपा सरकार से समर्थन वापस ले लिया है। विधायक...

दिसंबर महीने में महंगा हुआ रसोई गैस सिलेंडर, जानें कितने बढ़े दाम ?

Yuva Haryana, 01 December, 2020 देश में हर महीने की पहली तारीख को गैस सिलेंडर के रेट की समीक्षा होती है। इसके बाद तय किया...

Share this News
51Shares

Yuva Haryana, Chandigarh

हरियाणा विधानसभा के इस सत्र के दौरान कई महत्वपूर्ण बिल पारित हुए और इनमें से एक शुक्रवार को ग्राम पंचायतों के लिए ‘राइट टू रीकॉल’ बिल भी पटल पर रखा गया जिसे माननीय सदस्यों ने पास कर दिया। इस बिल के लागू होने से काम ना करने वाले सरपंच को कार्यकाल पूरा होने से पहले ही हटाने का अधिकार ग्रामीणों को मिल गया है।

          विधानसभा में आज पास हुए ‘राइट टू रीकॉल’ बिल के बारे में डिप्टी सीएम ने बताया कि सरपंच को हटाने के लिए गांव के 33 प्रतिशत मतदाता अविश्वास लिखित में शिकायत संबंधित अधिकारी को देंगे। यह प्रस्ताव खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी तथा सीईओ के पास जाएगा। इसके बाद ग्राम सभा की बैठक बुलाकर 2 घंटे के लिए चर्चा करवाई जाएगी।

इस बैठक के तुरंत बाद गुप्त मतदान करवाया जाएगा और अगर 67 प्रतिशत ग्रामीणों ने सरपंच के खिलाफ मतदान किया तो सरपंच पदमुक्त हो जाएगा। सरपंच चुने जाने के एक साल बाद ही इस नियम के तहत अविश्वास प्रस्ताव लाया जा सकेगा। श्री दुष्यंत चौटाला ने बताया कि अगर अविश्वास प्रस्ताव के दौरान सरपंच के विरोध में निर्धारित दो तिहाई मत नहीं पड़ते हैं तो आने वाले एक साल तक दोबारा अविश्वास प्रस्ताव नहीं लाया जा सकेगा। इस तरह ‘राइट टू रीकॉल’ एक साल में सिर्फ एक बार ही लाया जा सकेगा।

किन राज्यों में है राईट टू रिकॉल कानून ?
1. उत्तर प्रदेश
2. उत्तराखंड
3. बिहार
4. झारखंड
5. मध्य प्रदेश
6. छत्तीसगढ़
7. महाराष्ट्र
8. हिमाचल प्रदेश

क्या है राईट टू रिकॉल की प्रक्रिया ?
सरपंच पर रिकॉल (जनता द्वारा वापस बुलाने की प्रक्रिया) की प्रक्रिया 2 चरणों की प्रक्रिया है जिसको नागरिक स्वयं शुरू कर सकते हैं । राज्य अनुसार 1-2 वर्ष के सुरक्षित (लॉक-इन) अवधि के बाद, ग्राम सभा के सदस्यों की अमुक संख्या को अपने हस्ताक्षर अथवा अंगूठे के छाप याचिका के रूप में जिला के कलेक्टर के दफ्तर में देना होता है । हस्ताक्षरों की जांच के बाद, ग्राम सभा के सदस्यों की बैठक का आयोजन किया जायेगा और यदि उस बैठक में बहुमत ग्राम सभा के सदस्य, अपने सरपंच को हटाने के लिए मांग करते हैं, तो उस सरपंच को हटाया जायेगा ।

क्या है राईट टू रिकॉल का इतिहास ?
निर्वाचित प्रतिनिधियों को वापस बुलाने के अधिकार का इतिहास काफी पुराना है । प्राचीन काल में एंथेनियन लोकतंत्र से ही यह कानून चलन में था । बाद में कई देशों ने इस रिकॉल को अपने संविधान में शामिल किया । वैसे इतिहास यह है कि इस कानून की उत्पत्ति स्विटजरलैंड से हुई पर यह अमेरिकी राज्यों में चलन में आया । 1903 में अमेरिका के लास एंजिल्स की नगर पालिका (म्यूनिसपैलिटी), 1908 में मिशिगन और ओरेगान में पहली बार राइट टू रिकाल राज्य के अधिकारियों के लिए लागू किया गया ।

आधुनिक भारत में, सचिंद्रनाथ सान्याल ने सबसे पहले जनसेवकों को बदलने के अधिकार की मांग की थी। सचिंद्रनाथ सान्याल ने दिसम्बर 1924 में `हिंदुस्तान रिपब्लिकन ऐसोसियेशन` का घोषणा पत्र लिखा था। उस घोषणा पत्र में सचिंद्रनाथ सान्याल लिखा है कि “इस गणराज्य में, मतदाताओं के पास अपने जनसेवकों के ऊपर राईट टू रिकॉल (हटाने का प्रावधान) होगा, यदि मतदाता चाहें तो, नहीं तो लोकतंत्र एक मजाक बन जायेगा ।

चुने हुए जनप्रतिनिधियों पर रिकॉल का भारतीय लोकतंत्र में बहस का काफी लंबा इतिहास है; इस मुद्दे पर संविधान-सभा में भी बहस हुई थी। ये बहस इस धारणा पर केंद्रित थी कि मतदआतों के पास चुनाव के अधिकार होने के साथ-साथ हाताने (राईट टू रिकॉल) का अधिकार भी होना चाहिए और यदि कुछ गडबडी हो जाये तो, मतदाताओं के पास कोई उपाय होना चाहिए, लेकिन डा. बी.आर. आंबेडकर ने संविधान के इस प्रस्तावित संशोधन को स्वीकार नहीं किया।

18 जुलाई 1947 को सरदार वल्लभ भाई पटेल ने कहा था जब वे संविधान-सभा के बहस में जनता के जनसेवकों को हटाने के अधिकार (रिकॉल) के प्रस्तावित संशोधन पर चर्चा कर रहे थे – “यदि कुछ बिरले लोग या कुछ काली भेड़े हैं जिन्होंने अपने चुनाव-क्षेत्र का विश्वास खो दिया है और फिर भी संसद में उस चुनाव-क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करना चाहते हैं, तो उन कुछ बुरे लोगों के लिए हमें अपने चुनाव-क्षेत्र (की व्यवस्था) को बिगाडना नहीं चाहिए। हमें उसे वर्तमान अवस्था में ही रहने देना चाहिए और सम्बंधित सदस्यों के सही समझ पर छोड़ देना चाहिए |”

फिर भी, उसी समय कुछ सदस्यों को डर था कि बिना अविश्वास प्रस्ताव या रिकॉल के ग्राम या नगर पालिका की इकाइयां निरंकुश हो जाएँगी |

भारत में सबसे पहला रिकॉल (जनता का जनसेवक को वापस भुलाने का अधिकार) उत्तर प्रदेश में सरपंच पर ग्राम सभा के सदस्यों द्वारा अविश्वास प्रस्ताव के रूप में आया ।


Share this News
51Shares

More articles

Latest article

सोने की चमक पड़ी फीकी, 4 साल में सबसे बड़ी गिरावट, फटाफट जानें नए भाव

Yuva Haryana, 01 December, 2020 सोने की कीमतों में 4 साल की सबसे बड़ी गिरावट देखने को मिली है। सोमवार को भले ही भारतीय शेयर...

हरियाणा के इस शहर में पहला 4 मंजिला Bus Stand बनकर तैयार, 2021 में होगा उद्घाटन

Yuva Haryana, 01 December, 2020 हरियाणा प्रदेश का पहला चार मंजिला बस स्टैंड फतेहाबाद में बनकर लगभग तैयार है। यह बस स्टैंड करीब 8 करोड़...

हरियाणा के इस निर्दलीय विधायक ने वापस लिया भाजपा सरकार से समर्थन, देखिए

Yuva Haryana, 01 December, 2020 हरियाणा के दादरी से निर्दलीय विधायक सोमबीर सांगवान ने हरियाणा की भाजपा सरकार से समर्थन वापस ले लिया है। विधायक...

दिसंबर महीने में महंगा हुआ रसोई गैस सिलेंडर, जानें कितने बढ़े दाम ?

Yuva Haryana, 01 December, 2020 देश में हर महीने की पहली तारीख को गैस सिलेंडर के रेट की समीक्षा होती है। इसके बाद तय किया...

शादी के बंधन में बंधे अभय सिंह चौटाला के छोटे बेटे अर्जुन चौटाला, देखिए तस्वीरें

Yuva Haryana, 01 December, 2020 इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला के छोटे बेटे अर्जुन चौटाला सोमवार को यमुनानगर के पूर्व विधायक दिलबाग सिंह संधू की...