Home Breaking बेटी की रुक रही थीं सांसें, लेकिन हड़ताल के चलते पिता को अस्पताल से नहीं मिल रही थी कोई मदद

बेटी की रुक रही थीं सांसें, लेकिन हड़ताल के चलते पिता को अस्पताल से नहीं मिल रही थी कोई मदद

0

Yuva Haryana

Panipat, 18 June, 2019

सोमवार को हरियाणा समेत देशभर के डॉक्टर हड़ताल पर रहे। आईएमए ने दावा किया कि 3 लाख डॉक्टर इस हड़ताल में शामिल हैं। यह हड़ताल कोलकाता में जूनियर डॉक्टरों की पिटाई और इसके बाद ममता सरकार की धमकी के विरोध में की गई।

इसी बीच बीते सोमवार को पानीपत के गांव कुटानी निवासी सोकिंद्र अपनी 21 साल की बेटी काजल को लेकर सिविल अस्पताल पहुंचे। काजल को सांस की समस्या है और वह रुक- रुक कर सांसें ले रही थी। लेकिन यहां पर डॉक्टरों ने उसे हड़ताल पर होने का हवाला देते हुए करनाल के कल्पना चावला अस्पताल रेफर कर दिया।

वहां भी उसे एक टेबलेट देकर कहा गया कि कल लेकर आना। ऐसा ही आलम पूरे प्रदेश में दिखा, जहां हर दिन औसतन एक लाख मरीज प्राइवेट और सरकारी अस्पतालों में पहुंचते हैं। यहां लगभग 6500 प्राइवेट और 2600 सरकारी डॉक्टर हैं, लेकिन सब डॉक्टर हड़ताल पर हैं। डॉक्टरों की हड़ताल से लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं पीजीआई रोहतक में डॉ. ओमकार के सुसाइड मामले को लेकर हड़ताल कर रहे रेजीडेंट डॉक्टर्स सोमवार आधी रात को काम पर वापस लौट आए। वीसी डॉ. ओपी कालरा की ओर से हड़ताली डॉक्टर्स की सभी मांगों का भरोसा दिया गया है।

 

Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

महिला ने फांसी का फंदा लगाकर की खुदकुशी, मानसिक तौर पर थी परेशान

Yuva Haryana, Sonipat सोनीपत शहर के डबल स्टोरी इलाके में एक महिला ने घर में चुन्नी से फंदा…