Home Breaking रेलवे, बैंक और एम्स में नौकरी लगवाने के नाम पर करते थे ठगी, अब गिरफ्तार

रेलवे, बैंक और एम्स में नौकरी लगवाने के नाम पर करते थे ठगी, अब गिरफ्तार

0
0Shares

Yuva Haryana
Chandigarh, 07 June, 2019

रेलवे, बैंक व एम्स मे नोकरी लगवाने के नाम पर ठगी करने के मामले मे दो आरोपियों को सीआईए-वन पुलिस टीम ने काबू‌ करने मे बडी सफलता प्राप्त की। प्रारंभिक पुलिस पुछताछ मे आरोपियों से खुलाशा हुआ की वह करीब डेढ वर्ष से इस प्रकार से ठगी की वारदात को अंजाम देने मे सक्रिय थे और अभी तक करीब 60 से 62 व्यक्तियों को नोकरी लगवाने का झांसा देकर 1 करोड 57 लाख रूपये के करीब की ठगी कर चुके है।

गहनता से पुछताछ करने के लिए गिरफतार आरोपी मनोज निवासी छाजपुर खुर्द व संदीप निवासी बराना को आज माननीय न्यायालय मे पेश कर पांच दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया।

सीआईए-वन टीम प्रभारी इंस्पेक्टर संदीप कुमार ने बताया कि गत बुधवार को थाना शहर मे कृष्ण निवासी बुटाना जिला सोनीपत ने शिकायत दे बताया कि वह फौज से पैंशन आया हुआ है। उसकी करीब डेढ वर्ष पूर्व पानीपत बिशन स्वरूप कॉलोनी मे सक्सेस प्वाईट कोचिंग सैंटर पर सैंटर संचालक संदीप पुत्र राजेन्द्र निवासी बराना पानीपत से मुलाकात हुई। करीब एक वर्ष पूर्व संदीप ने उससे कहा कि मनोज निवासी छाजपुर नाम का व्यक्ति पैसे लेकर नोकरी लगवाता है जो मे तुम्हारे लडके, उसके साले व पुत्रवधू को बैंक, रेलवे व एम्स मे नोकरी लगवा सकता हुं। जो तीनों को नोकरी लगवाने के नाम पर उससे 11 लाख 50 हजार रूपये व ओरिजनल डाक्युमेंटस संदीप ने बिशन स्वरूप कालोनी मे अपने कोचिंग सैंटर पर ले लिए।

करीब एक महिने बाद संदीप ने वॉटसेप पर उसके लडके प्रितम का मेडिकल लेटर भेजकर लखनऊ-गोरखपुर चलने को कहा संदीप लडके को साथ ले गोरखपुर गया और वहा रेलवे हस्पताल के बाहर बैठाकर वापिस भेज दिया और कहा की तुम्हारा मेडिकल हो गया है। इसके दो महिने बाद संदीप ने रिर्पोटिंग लेटर दे लडके प्रितम को लखनऊ-स्टेशन पर बुलाया। लखनऊ स्टेशन पर फोन कर एक लडका उससे मिला और उससे रिर्पोटींग लेटर ले वापिस भेज दिया। इसके डेढ महिने बाद बाई पोस्ट चघमपुर झारखंड के नाम से ज्वाईनिंग लेटर आया जो हमे संदीप पर शक हुआ और संदीप से कहा की यह लेटर झूठा व नकली है। संदीप ने कहा की तुम्हारे को एम्स दिल्ली मे लगवा दूगा यह बात कहकर संदीप ने वह लेटर उनसे वापिस ले लिया और कुछ समय बाद संदीप मे डाक्युमेंटस भी वापिस दे दिए। उन्होने संदीप से पैसे वापिस मागे तो संदीप बार-बार उन्हे झूठ बोलकर गुमराह करता रहा। पैसे लेने के लिए संदीप के घर पर गए तो वह गाली गलोच करने के साथ-साथ धमकी देने लगा। जो कृष्ण की शिकायत पर आरोपित संदीप व अन्य के खिलाफ थाना शहर मे भा.द.स की धारा 467,468,471,506 के तहत मुकदमा नंबर 460/19 दर्ज कर कानूनी कार्रवाही अमल मे लाई गई।

इंस्पेक्टर संदीप कुमार ने बताया कि पुलिस अधीक्षक सुमित कुमार आदेशानुसार इस मुकदमे की जांच सीआईए-वन पुलिस द्वारा अमल मे लाई जा रही थी। जो जांच उपरांत सीआईए-वन पुलिस टीम ने वीरवार देर साय आरोपी मनोज निवासी छाजपुर खुर्द व संदीप निवासी बराना को वीरवार देर साय सैक्टर-18 पानीपत से काबु किया। प्रारंभिक पुलिस पुछताछ मे आरोपियों से खुलाशा हुआ की वह करीब डेढ वर्ष से इस प्रकार से ठगी की वारदात को अंजाम देने मे सक्रिय थे और अभी तक करीब 60 से 62 व्यक्तियों को नोकरी लगवाने का झांसा देकर 1 करोड 57 लाख रूपये के करीब की ठगी कर चुके है। गहनता से पुछताछ करने के लिए गिरफतार उक्त आरोपियों को आज माननीय न्यायालय मे पेश कर पांच दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया।

इंस्पेक्टर संदीप कुमार ने बताया की पुलिस अधीक्षक सुमित कुमार के कुशल मार्गदर्शन मे सीआईए-वन पुलिस की टीम इस गिरोह मे शामिल अन्य आरोपियों के विभिन्न ठिकानों पर दंबिस दे रही है जो आरोपियों को जल्द ही काबु कर लिया जाएगा।

Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

तालाब पर खेल रहे दो सगे भाइयों की पानी से भरे गड्ढे में डूबने से मौत

Yuva Haryana, Karnal करनाल के नि…