Breaking Uncategorized चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

भाईचारे की मिसाल- कोरोना से हो गई थी पिता की मौत, गांव वालों ने बेटी की शादी में दिया चार लाख का शगुन

Yuva Haryana, Rohtak

कोरोना से पिता की मौत के बाद गांव वालों ने बेटी की शादी के लिए चार लाख का शगून डाल भाईचारे की अनूठी मिसाल पेश की है। मामला हरियाणा के जिला रोहतक के ककराना गांव का है। यहां एक साल पहले एक सामाजिक कार्यकर्ता का कोरोना से निधन हो गया था। 21 मई को उसकी दो बेटियों की शादी में पूरे गांव ने चार लाख रुपये का शगुन दिया।

खास बात यह रही कि इसमें गांव के बाहर नौकरी व कारोबार कर रहे युवाओं का भी अहम योगदान रहा। छत्तीसगढ़ में डीसी, मुंबई से बॉलीवुड कलाकार, दिल्ली से सुप्रीम कोर्ट के वकील व फैक्टरी मालिक तक ने ऑनलाइन शगुन राशि भेजी। ककराना गांव के शिक्षक रामबीर ने सामाजिक कार्यों के लिए गांव की एक टीम बना रखी थी। इस टीम में हेयर ड्रेसर का काम करने वाला ठंडीराम भी जुड़े थे।

मास्टर रामबीर ने बताया कि पिछले साल कोरोना से ठंडीराम की पीजीआईएमएस में मौत हो गई थी। ठंडीराम उसकी टीम का सदस्य था। उसी समय तय कर लिया था, ठंडीराम के परिवार को किसी तरह की तकलीफ नहीं होने देंगे।

ठंडीराम की दो बेटियां और दो बेटे हैं। बड़ी बेटी मेघा ने स्नातक की पढ़ाई कर ली है, जबकि उससे छोटी वर्षा अभी बीए कर रही है। दोनों पढ़ने में अव्वल रही हैं। मेघा ने तो 12वीं की परीक्षा में गांव के अंदर पहला स्थान हासिल किया था।

एक माह पहले ठंडीराम का भाई उनके पास आया और बताया कि मेघा व वर्षा का रिश्ता तय कर दिया है। दोनों की 21 मई को शादी होनी है। मास्टर रामबीर ने ककराना धाम के नाम से एक व्हाट्सएप ग्रुप बना रखा है। ग्रुप से गांव के नौकरीपेशा, कारोबारी व कलाकार तक जुड़े हैं।

गांव निवासी रणबीर शर्मा आईएएस हैं और फिलहाल छत्तीसगढ़ के सूरजपुर जिले के डीसी हैं, जबकि शिवशंकर मुंबई में फिल्म कलाकार हैं। गांव के शशिकांत सुप्रीम कोर्ट में वकील और राजकुमार फैक्टरी मालिक हैं। गांव के 20 युवक शिक्षक व 15 पुलिस विभाग में नौकरी करते हैं। सभी ने आशीर्वाद स्वरूप कन्यादान राशि भेजी।

जिले में गांवों के अंदर पिछले साल कोरोना का पहला केस ककराना गांव में आया था, जबकि दिल्ली में कैंसर का उपचार करवाने गए एक बुजुर्ग कोरोना से संक्रमित हो गए थे। 700 घरों के गांव में पहले चौपाल पर या हुक्के पर ग्रामीण एकत्रित होते थे लेकिन कोरोना संक्रमण को देखते हुए अब सोशल मीडिया को प्लेटफार्म बना लिया है। इसकी अगुवाई गांव के शिक्षक एवं सामाजिक कार्यकर्ता रामबीर कर रहे हैं।

ये भी पढ़िये >>

हरियाणा में Flipkart बनाएगी एशिया का सबसे बड़ा वेयरहाउस, बढ़ेंगे रोजगार के अवसर

Yuva Haryana

हरियाण में नहीं टूटा वोटिंग का पिछला रिकॉर्ड, सिरसा में सबसे ज्यादा वोटिंग

Yuva Haryana

फिर बजा चुनावी बिगुल, 18 नगरसमितियों के लिए 13 मई को वोटिंग, आचार संहिता लागू

admin

नहीं रहे गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर, लंबे समय से थे बीमार

Yuva Haryana